+91 9891091531 / +91 99993 91964
rashi ratan logo
                     

Watch Video

Gaouri Shankar Rudraksha


Gaouri Shankar Small

Gaouri Shankar Small, Nepal

Price : ₹ 5000

Gaouri Shankar Medium

Gaouri Shankar Medium, Nepal

Price : ₹ 5500

Gaouri Shankar large

Gaouri Shankar large, Nepal

Price : ₹ 8000


    

Gouri shankar rudraksh .

Lord shiva and mother parvati is visible seated in Gouri shankar rudraksha . There are two rudraksh naturally connected to each other in Gouri Shankar rudraksh . hence it is called Gouri shankar rudraksh .

(Gouri Shankar Rudraksha is duly worshiped and chanted 1.25 lakh mantras and wears it.)

The mantra to wear:   "Om Gaurishankarai Namah" (“ॐ गौरीशंकराय नमः”)

Benefits of Gauri Shankar Rudraksha?

Especially not being able to get married ,not able to find a perfect life partner,  having not a good marriage discussion, getting always deled in marriage,  if there is such a problem, then should be wearing Ghori Shankar Rudraksha to the woman and man  Parvati's blessings lead to early marriage. Apart from this, if the relationship between husband and wife is not good after marriage or if there is a situation of separation due to deteriorating relationship, then wearing this Gauri-Shankar Rudraksha strengthens the relationship. Apart from this, problems in the physical relationship, problems in having children or the health of the husband and wife are not good, Mangli dosha, lack of quality in Ashtakoot Melapak, if there is widow yoga in the horoscope, then it is beneficial to wear Gauri-Shankar Rudraksha. The body relieves problems related to health, getting sick again and again, especially troubles related to stomach, heart, head, nerves. Less attainment by hard work, excess of expenditure, inadequate of money, unreasonable expenses, problems to parents, family relations not being well, home-abuse, vehicle related problems, debts, diseases, problems with enemies, going abroad If there is trouble in employment, job or employment, loss of prestige, hindrance in promotion, then wearing Gauri Shankar Rudraksha leads to progress  in every field.

How does Rudraksha affect the body

Just as we take advantage of the TV channel sitting at home through the rays of Satellite, in the same way, the auspicious rays of the planets enter the body through Rudraksh, we get the benefit from this. The importance of Rudraksha is that it has a unique kind of pulse. Which makes you a protective shield of your positive energy, so that negative and external energies do not disturb you.

Why take it from us

* Genuine Rudraksh from our institute is given with guarantee along with lab certificate which is certified by a Government of India accredited lab.

* Rudraksh is given in pendant of silver or ashtadhatu .

* According to the name and Rashi of Rudraksh holder from our institute it is given by inviting worship and rituals.

* Complete description of which day and time to wear Rudraksha is given. (You just have to wear Rudraksha.)

* Apart from this, if you have any type of question, then you can contact us anytime.

गौरी-शंकर रुद्राक्ष ?

गौरी-शंकर रुद्राक्ष में भगवन शंकर तथा माता पार्वती साक्षात् रूप से विराजमान रहती हैं। इसमें दो रुद्राक्ष आपस में एक दूसरे से प्राकृतिक रूप से जुड़े होते है , इसलिए इसे गौरी-शंकर रुद्राक्ष कहते हैं। (इस रुद्राक्ष को विधिवत प्राणप्रतिष्ठा करके सवा-लाख मन्त्रों का जप करके धारण करने से लाभ होता है।)

धारण करने का मंत्र- “ॐ गौरीशंकराय नमः”

गौरी-शंकर रुद्राक्ष के लाभ ?

खासकर वैवाहिक पारिवारिक दृश्टिकोण से विवाह न हो पाना , विवाह में बात का न बन पाना , बनते बनते कट जाना , विवाह तय होकर कट जाना , विवाह में बिलम्व होना , इस तरह की परेशानी हो तो स्त्री एवं पुरूष को गौरी-शंकर रुद्राक्ष धारण करने से भगवान् शंकर एवं माता पार्वती के आशीर्वाद से शीघ्र विवाह के योग बनते हैं। इसके अलावा विवाह के बाद पति-पत्नी के संबंध ठीक नहीं रहते हो या आपसी संबंध खराब होने के कारन अलग होने की स्थिति बन जाय तो यह गौरी-शंकर रुद्राक्ष धारण करने से संबंध मजबूत होता हैं। इसके अलावा शारीरिक संबंध में परेशानी, संतान होने में परेशानी या पति पत्नी के स्वस्थ्य ठीक नहीं रहते हो , या जन्मकुंडली में मंगली दोष, अष्टकूट मेलापक में गुण का कम मिलना या कुंडली में वैधव्य योग हो तो गौरी-शंकर रुद्राक्ष धारण करने से लाभ होता हैं। शरीर स्वस्थ्य से संबंधित परेशानी ,बार बार बीमार पड़ना , खास कर पेट , हृदय, सर , नसों से संबंधित कष्ट को दूर करता है। मेहनत से कम प्राप्ति , खर्च की अधिकता , पैसे की वचत नहीं हो पाना ,अकारण व्यय , माता -पिता को परेशानी , पारिवारिक संबंध ठीक न रहना ,घर-माकन, भूमि-भवन वाहन से सम्बंधित परेशानी , ऋण रोग शत्रु से परेशानी , देश-विदेश जाने में परेशानी , नौकरी या रोज़गार में परेशानी, प्रतिष्ठा की हानि , प्रमोशन में रूकावट हो तो गौरी-शंकर रुद्राक्ष धारण करने से प्रत्येक क्षेत्रों में उन्नति एवं प्रगति होती है।

शरीर के ऊपर गौरी-शंकर रुद्राक्ष का प्रभाव कैसे होता हैं ?

जिस प्रकार हम सेटेलोइट के किरणों के द्वारा घर बैठे टीवी चैनल का लाभ उठाते है उसि प्रकार ग्रहो की शुभ किरणे रुद्राक्ष के द्वारा शरीर में प्रवेश करती है , इससे हमें लाभ की प्राप्ति होती है। रुद्राक्ष का महत्व यह है कि इसमें अनोखे तरह का स्पदंन होता है। जो आपके लिए आप की सकारत्मक ऊर्जा का सुरक्षा कवच बना देता है, जिससे नकारात्मक एवं बाहरी ऊर्जाएं आपको परेशान नहीं कर पाती।

हमारे यहाँ से क्यों ले ?

* हमारे संस्थान से असली रुद्राक्ष गारंटी के साथ दिया जाता है जिसके साथ असली होने का लैब सर्टिफिकेट होता है जो भारत सरकार से मान्यता प्राप्त लैब के द्वारा प्रमाणित होता है।

* हमारे संस्थान से रुद्राक्ष को चांदी या अष्टधातु में निर्मति करके दिया जाता है।

* हमारे संस्थान से रुद्राक्ष धारक के नाम एवं ग्रहों के अनुसार पूजा एवं अनुष्ठान के द्वारा अभिमंत्रित करके दिया जाता है ।

* रुद्राक्ष को किस दिन एवं किस समय धारण करना हैं इसका सम्पूर्ण विवरण लिखकर दिया जाता है। (आपको सिर्फ रुद्राक्ष धारण करना होता है। )

call 09999391964
  • Rashi Ratan